Mueen Akhtar_What is National Inegration & Awareness in Ncc

National Integration & Awareness

National Integration & Awareness means unity among the people of the nation. It is a bond and togetherness between people regardless of their caste, creed, religion, or gender. National Integration & Awareness consists of the feeling of oneness, brotherhood, and social unity under communities and society in a country.

National Integration & Awareness provides a suitable atmosphere for the country to develop more rapidly. So, the nation which remains integrated will always progress on the track of development and prosperity.

However, in this article, we will cover the following points to understand the National Integration & awareness:

Meaning of National Integration


Related Post


Meaning of National Integration

The oneness or unity among the people of the nation is National Integration. The feeling of National Integration is a positive concept. This concept maintains unity among the diverse section of the society. National Integration is the acceptance of the diversity of others. In this feeling, we respect the religion, customs, dresses, foods, and many things of others with the sense of brotherhood.

We can also understand National Integration in this way:

  • The unity among the citizen of a nation is National Integration.
  • It allows the people to accept and respect the different outlooks of other citizens. The citizens or the people respect the other citizen who belongs to a different religion, color, & cast.
  • It is the awareness of a common identity amongst the citizens of a nation.

Back

Fundamentals of National Integration

The fundamentals are as under:

  • Regionalism
  • Casteism
  • Language
  • Language
  • Education
  • Communalism

Why is it required?

We must know why we require it. For this, we have to look back on the background of India in history. Here are some facts related to this:

  • Various different races have been coming to India. While entering, they had conflicts with the local inhabitants. Consequently, these conflicts affected the local culture. By degrees, with assimilation of the foreign influence of local culture, Indian culture grew richer & richer.
  • We can find in history that many races came to India. They brought their culture, food habits, dressing sense, and many other things with them. This diversity mixed in Indian culture and made it rich. The races who came to India are- negro races, Dravidians, Aryans, Muslims & Britishers.
  • We have very different geographical conditions. Accordingly, we find different food habits & languages. Kashmir region is just opposite to the South region. So to the region of the east region is different to the region of West in India.

In such a diverse condition, national unity is a must go forward on the track of progress. Hence, the awareness of national unity is required in the citizen of India.

Back to List

Advantages of National Integration & Awareness

  • Unites the Country– It unites the country & its citizens. This unity helps to maintain the sovereignty and territorial integration of the country. National unity is most needed among the people belonging to different caste, color, and creeds. After all, a united country stands firms at the international level.
  • Social Harmony & Peace– National oneness also promotes social harmony & peace. It helps to develop culture & religion in society. National Integration also helps in maintaining the social welfare & well-being of the people.
  • National Development in Economy– If there is unity among the people of a country, there will be a smaller number of problems. In such conditions, there is no need for the Govt to spend time & money on these problems. Definitely, these conditions will help to develop the individual to progress in economical & financial areas. Automatically, every individual will also contribute to the national economy.
  • Development in Foreign Trades & Investments– A peaceful & united country is always a better place for business. This will increase foreign attractions in many ways. Business-like tourism, exportation may grow faster. A peaceful nation is always a safe place for foreign investments.
  • Growth in Art, Literature & Science- A peaceful & united nation has the better chances to grow in arts, literature & scientific area. A peaceful mind can create more innovation rather than a disputed mind.

Youth Contribution

Youth is always the future of a nation. The youth have the following qualities which make their contribution so important:

  • Youth is the backbone of a Nation
  • New Generations are always the hope & future of a nation
  • New Generation belong to each section of the society

So, the importance of youth in national unity becomes so important. The united youth can bring all together. They can create awareness, help the weaker sections of the society, support & cooperate with each other. Hence, as a youth, your contribution is vital.

Back to List

Role of NCC

Ncc has always a motivated and inspiring organization for youth. Ncc plays a very essential role in unifying India. Let’s have a look at how the Ncc is important to maintain National Unity:

  • Ncc Movements creates awareness among the new generation youth about national unity.
  • Activities of Ncc make the cadets aware of the diverse heritage of the country.
  • Through the various camps & programs, cadets live together with cadets belonging from different regions, cast, and languages.
  • Camp of Ncc develops the feeling of brotherhood among the cadets. However, they learn to co-operate & respect with each other.
  • The motto of Ncc- ‘Unity & Discipline’ is promoting youth to be united and disciplined.

Back

राष्ट्रीय एकता और जागरूकता

राष्ट्रीय एकता और जागरूकता का अर्थ है राष्ट्र के लोगों के बीच एकता। यह लोगों के बीच उनकी जाति, पंथ, धर्म या लिंग की परवाह किए बिना एक बंधन और एकजुटता है। राष्ट्रीय एकता और जागरूकता में एक देश में समुदायों और समाज के तहत एकता, भाईचारे और सामाजिक एकता की भावना शामिल है।

देश की एकता को अधिक तेज़ी से विकसित होने के लिए उपयुक्त वातावरण प्रदान करती है। इसलिए जो राष्ट्र एकीकृत रहेगा, वह हमेशा विकास और समृद्धि के पथ पर आगे बढ़ेगा।

हालाँकि, इस लेख में, हम इस एकता और जागरूकता को समझने के लिए निम्नलिखित बिंदुओं को शामिल करेंगे:

  • राष्ट्रीय एकता का अर्थ
  • मूलभूत तत्व
  • इसकी आवश्यकता क्यों?
  • महत्व
  • युवा योगदान
  • एनसीसी. की भूमिका

राष्ट्रीय एकता का अर्थ

राष्ट्र के लोगों के बीच एकता, राष्ट्रीय एकता कहलाती है। राष्ट्रीय एकता की भावना एक सकारात्मक अवधारणा है। यह अवधारणा समाज के विविध वर्गों के बीच एकता बनाए रखती है। राष्ट्रीय एकता दूसरों की विविधता की स्वीकृति है। इस भावना में हम धर्म, रीति-रिवाजों, पहनावे, खान-पान और अन्य कई चीजों का सम्मान भाईचारे की भावना से करते हैं।

राष्ट्रीय एकता को हम इस प्रकार भी समझ सकते हैं:

  • एक राष्ट्र के नागरिक के बीच एकता, राष्ट्रीय एकता कहलाती है।
  • यह लोगों को अन्य नागरिकों के विभिन्न दृष्टिकोणों को स्वीकार करने और उनका सम्मान करने की अनुमति देता है। नागरिक या लोग दूसरे नागरिक का सम्मान करते हैं जो अलग-अलग धर्म, रंग और जाति के हैं।
  • यह एक राष्ट्र के नागरिकों के बीच एक समान पहचान की जागरूकता है।

राष्ट्रीय एकता के मूल सिद्धांत

मूल बातें इस प्रकार हैं:

  • क्षेत्रवाद
  • जातिवाद
  • भाषा
  • शिक्षा
  • सांप्रदायिकता

इसकी आवश्यकता क्यूँ?

हमें पता होना चाहिए कि हमें इसकी आवश्यकता क्यों है। इसके लिए हमें इतिहास में भारत की पृष्ठभूमि को देखना होगा। इससे जुड़े कुछ तथ्य इस प्रकार हैं:

  • भारत में विभिन्न नस्लें सदियों से आती रही हैं। प्रवेश करते समय उनका स्थानीय निवासियों से सामना हुआ। नतीजतन, इन संघर्षों ने स्थानीय संस्कृति को प्रभावित किया। धीरे-धीरे, स्थानीय संस्कृति में बाहरी प्रभावों का मिलन होता रहा।इससे भारतीय संस्कृति समृद्ध और समृद्ध होती गई।
  • भारत में कई जातियां आयीं और वे अपने साथ अपनी संस्कृति, खान-पान, पहनावा और कई अन्य चीजें लेकर आयीं। यह विविधता भारतीय संस्कृति में मिश्रित होकर इसे समृद्ध बनाती रही। भारत में आने वाली नस्लें में नीग्रो जाति, द्रविड़, आर्य, मुस्लिम और ब्रिटिश मुख्य रूप से रही हैं।
  • हमारी भौगोलिक स्थितियां बहुत अलग हैं। तदनुसार, हम विभिन्न खाद्य आदतों और भाषाओं को पाते हैं। कश्मीर क्षेत्र से दक्षिण क्षेत्र ठीक विपरीत है। इसी प्रकार पूर्वी क्षेत्र भारत में पश्चिम के क्षेत्र से भिन्न है।

ऐसी विषम परिस्थितियों में प्रगति के पथ पर आगे बढ़ने के लिए राष्ट्रीय एकता जरूरी है। इसलिए, भारत के नागरिक में राष्ट्रीय एकता की जागरूकता की आवश्यकता है।

लाभ

  • देश की अखंडता– यह देश और उसके नागरिकों को जोड़ता है। यह एकता देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय एकीकरण को बनाए रखने में मदद करती है। विभिन्न जाति, रंग और पंथ के लोगों के बीच राष्ट्रीय एकता की आवश्यकता है। आखिरकार, एक संयुक्त देश अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फर्म खड़ा करता है।
  • सामाजिक सद्भाव और शांति– राष्ट्रीय एकता सामाजिक सद्भाव और शांति को भी बढ़ावा देती है। यह समाज में सांस्कृतिक और धर्म को विकसित करने में मदद करता है। राष्ट्रीय एकता लोगों के सामाजिक कल्याण और कल्याण को बनाए रखने में भी मदद करती है।
  • अर्थव्यवस्था में राष्ट्रीय विकास– यदि किसी देश के लोगों में एकता होगी, तो कम संख्या में समस्याएं होंगी। ऐसी स्थिति में, इन समस्याओं के लिए सरकार को समय और पैसा खर्च करने की कोई आवश्यकता नहीं है। निश्चित रूप से, ये स्थितियां व्यक्ति को आर्थिक और वित्तीय क्षेत्रों में प्रगति के लिए विकसित करने में मदद करेंगी। स्वचालित रूप से, प्रत्येक व्यक्ति राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में भी योगदान देगा।
  • विदेशी व्यापार और निवेश में विकास– एक शांतिपूर्ण और संयुक्त देश हमेशा व्यापार के लिए एक बेहतर जगह है। इससे कई तरह से विदेशी आकर्षण बढ़ेगा। व्यापार जैसे पर्यटन, निर्यात में तेजी से वृद्धि हो सकती है। एक शांतिपूर्ण राष्ट्र हमेशा विदेशी निवेश के लिए एक सुरक्षित स्थान होता है।
  • कला, साहित्य और विज्ञान में विकास– एक शांतिपूर्ण और संयुक्त राष्ट्र में कला, साहित्य और वैज्ञानिक क्षेत्र में बढ़ने की बेहतर संभावना है। एक शांतिपूर्ण दिमाग विवादित दिमाग के बजाय अधिक नवीनता पैदा कर सकता है।

युवा योगदान

युवा हमेशा राष्ट्र का भविष्य होता है। युवाओं में निम्नलिखित गुण हैं जो उनके योगदान को इतना महत्वपूर्ण बनाते हैं:

  • किसी भी देश का युवा उस राष्ट्र की रीढ़ है।
  • नई पीढ़ी हमेशा राष्ट्र की आशा और भविष्य होती है।
  • नई पीढ़ी समाज के हर वर्ग से संबंधित होती है।

इसलिए, राष्ट्रीय एकता में युवाओं का महत्व इतना महत्वपूर्ण हो जाता है। एकजुट युवा सभी को एक साथ ला सकते हैं। वे जागरूकता पैदा कर सकते हैं, समाज के कमजोर वर्ग की मदद कर सकते हैं, एक दूसरे का समर्थन और सहयोग कर सकते हैं। इसलिए, एक युवा के रूप में, आपका योगदान महत्वपूर्ण है।

एनसीसी की भूमिका

युवाओं के लिए एनसीसी हमेशा एक प्रेरित और प्रेरक संगठन रहा है। Ncc भारत को एक करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आइए एक नजर डालते हैं कि राष्ट्रीय एकता को बनाए रखने के लिए एनसीसी कैसे महत्वपूर्ण है:

  • यह आंदोलन नई पीढ़ी के युवाओं में राष्ट्रीय एकता के बारे में जागरूकता पैदा करता है।
  • एनसीसी की गतिविधियां कैडेटों को देश की विविध विरासत के बारे में जागरूक बनाती हैं।
  • विभिन्न शिविरों और कार्यक्रमों के माध्यम से, कैडेट विभिन्न क्षेत्र, जाति और भाषा से संबंधित कैडेटों के साथ रहते हैं।
  • एनसीसी के कैंप से कैडेटों में भाईचारे की भावना का विकास होता है। हालांकि, वे एक दूसरे के साथ सहयोग और सम्मान करना सीखते हैं।
  • एनसीसी का उद्देश्य- ‘एकता और अनुशासन’ युवाओं को एकजुट और अनुशासित होने के लिए प्रोत्साहित करता है।

Latest Post


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!