बंगाल स्कूल

बंगाल स्कूल

बंगाल स्कूल आधुनिक भारतीय कला का एक महत्वपूर्ण अध्याय है। यह एक नयी कला शैली के साथ-साथ एक आंदोलन भी था। इसका उद्देश्य ब्रिटिश ग़ुलामी से भारतीयता को जीवित रखना  भी था। वैसे तो ये कम्पनी शैली के बाद बंगाल में पुनरुत्थान की कला के रूप में उदय हुई । मगर, इस शैली ने पूरी …

बंगाल स्कूल Read More »

चित्रकला के सिद्धांत

चित्रकला के सिद्धांत

भारतीय चित्रकला के अंग भारतीय चित्रकला के सिद्धांत या चित्रकला के छह अंग का उल्लेख सबसे पहले वात्स्यायन के कामसूत्र में मिलता है। यह ग्रंथ ६०० से २०० ईसा पूर्व की रचना है। इसके अलावा, जयपुर के निवासी यशोधर पंडित ने 11 वीं शताब्दी में इसकी टींका किया। इन प्राचीन चित्रकला के सिद्धांत को एक …

चित्रकला के सिद्धांत Read More »

Exclusive World Record was Set in K. V. No 3 Jhansi

Exclusive Record in K V No 3 Jhansi

Three students set one Exclusive World Record & 2 India Book of records in K. V. No 3 Jhansi. All three record was set in Rope Skipping. Kendriya Vidyalaya No 3 honored these Kids. Master Vineet Kumar set Exclusive World Record while master Krishna Dutta Dubey & Siddhant Dubey set India Book of Records. Exclusive …

Exclusive World Record was Set in K. V. No 3 Jhansi Read More »

Zentangle Art

Zentangle Art

Zentangle art is very popular nowadays. Infect this article will help to learn Zentangle art for beginners about its basics, painting, letters. Zentangle Art is a non-representational & unplanned drawing. It has structured patterns or Tangles. Actually, unplanned or random structured patterns are tangles. We can create these tangles by using dots, lines, simple curves, …

Zentangle Art Read More »

पहाड़ी चित्रकला शैली

पहाड़ी चित्रकला शैली

पहाड़ी चित्रकला शैली के अंतर्गत हिमालय -पंजाब व जम्मू क्षेत्र में विकसित कला आती हैं| इस ब्लॉग में हम पहाड़ी चित्रकला शैली की उत्पत्ति व विकास के साथ-साथ बसौली के बारे में देखेंगे| कांगड़ा शैली भी पहाड़ी शैली की एक उप शैली है| चलिए हम इस पहाड़ी चित्रकला शैली लेख में इन बिन्दुओं पर विस्तार …

पहाड़ी चित्रकला शैली Read More »

राजा रवि वर्मा

राजा रवि वर्मा Raja Ravi Varma

राजा रवि वर्मा का जन्म 1848 में त्रावनकोर के किलिमानूर गाँव में हुआ था| इनकी माँ उमा अम्बा बाई संगीत में दक्ष थी| जबकि पिता नीलकांत भट्ट वेदों के ज्ञाता व संस्कृत के पंडित थे|