चित्रकला के सिद्धांत

चित्रकला के सिद्धांत

भारतीय चित्रकला के अंग

भारतीय चित्रकला के सिद्धांत या चित्रकला के छह अंग का उल्लेख सबसे पहले वात्स्यायन के कामसूत्र में मिलता है। यह ग्रंथ ६०० से २०० ईसा पूर्व की रचना है। इसके अलावा, जयपुर के निवासी यशोधर पंडित ने 11 वीं शताब्दी में इसकी टींका किया। इन प्राचीन चित्रकला के सिद्धांत को एक श्लोक में प्रस्तुत किया:

रूप भेदः प्रमाणनि भाव लावण्य योजनाम्

सादृश्यं वर्णिकाभंग इति चित्रं षडंगकम्।।

इस श्लोक के अनुसार चित्रकला के छह अंग या सिद्धांत इस प्रकार हैं:

  • रूपभेद ,
  • प्रमाण,
  • भाव,
  • लावण्य योजना ,
  • साद्रश्य,
  • वर्णिका भंग

(Also Read this Article in English – Six Limbs Of Art)

six limbs of art

चित्रकला के सिद्धांत में रूपभेद

रूप चित्रकला के सिद्धांत के छह अंगों में से एक है। इसका अर्थ है विभिन्न प्रकार के रूप या आकार। इसमें रूपों के रहस्य और अंतर हैं। उदाहरण के लिए- अलग-अलग कोणों और अलग-अलग आकृतियों, जैसे-गोल, अंडाकार, कई रंगों वाला, कठोर, मुलायम, खुरदरा चिकना आदि।

इसके अतिरिक्त, महाभारत के शांति-पर्व में 16 प्रकार के रूप हैं। लेकिन ये बाहरी (भौतिक) प्रकार के रूप हैं।

six limbs of art in hindi

वास्तव में, रूप के कई रहस्यमय भेद हैं जिसमें एक कलाकार को एक विशेषज्ञ होना चाहिए। इसलिए, केवल फटे कपड़ों के साथ, कोई यह नहीं दिखा सकता है कि यह महिला एक नौकरानी है, किसी गरीब की प्रियतम नहीं।

इसलिए, विष्णु-धर्मोत्तर पुराण में, चार प्रकार के चित्रों का वर्णन किया गया है:

  • सत्य  
  • वेणिक
  • नागर
  • मिश्र

चित्रकला के सिद्धांत या षड़ंग को आप इस विडीओ में भी देख सकते हैं :

प्रमाण

चित्रकला के सिद्धांत या षड़ंग के प्रमाण में अंगों के उचित अनुपात को बताया गया है। इसके  अनुसार शरीर की संरचना का वर्णन किया गया है। भारतीय विद्वानों ने पाँच प्रकार के रूपों का उल्लेख किया है। हालांकि, उन्होंने अपना माप इस प्रकार दिया है:

  • बाल (लड़का): पांच ताल, जैसे – गोपाल
  • कुमार: आठ ताल, वामन की तरह
  • मानव: दस ताल, जैसे अर्जुन, पांडव, राम, कृष्ण
  • भयानक: बारह ताल, जैसे – भैरव, हयग्री, बारह
  • राक्षस : सोलह ताल, जैसे- भैरव, हायग्री, बारह

हालांकि, ताल शब्द को माप के लिए इकाई के रूप में उपयोग किया जाता है। इसके अलावा, अंगुल (फिंगर) अनुपात को भी माना या उपयोग किया जाता है। यह अनुपात का एक सरल उपाय है। लेकिन इन मापों का उपयोग किसी कलाकार के तर्क पर निर्भर करता है। कलाकार को अपनी तर्कसंगत शक्ति से इसे बार-बार मापना चाहिए।

भाव

six limbs of art in hindi
Expression

चित्र बनाने का मुख्य उद्देश्य एक भावनात्मक लगाव है। ये दोनों बातें मूलतः एक ही हैं। कोई भी भावनात्मक जुड़ाव या अचानक भावना कला के काम को देखने के बाद मन में होती है। इसे भाव कहते हैं। भाव की अभिव्यक्ति एक चित्र की आत्मा है। तदनुसार, इसके दो आधार हैं:

  • चित्रकार के भाव जिसे वह चित्र में दिखाना चाहता है
  • चित्र को देखकर दर्शकों के दिल में भाव उत्पन्न होते हैं।

इस प्रकार, हम चित्र में आंखों के माध्यम से भाव देख सकते हैं। लेकिन कुछ भावनाओं का संबंध केवल दृष्टि से नहीं होता है। इसलिए, एक कलाकार को उन भावों को दिखाने के लिए लगातार अपने अपने अनुभव को विकसित करना होगा। नतीजतन, भावना दिखाने के लिए अन्य तकनीकों या उपायों का उपयोग करना पड़ता है।

(Must Read Article- Progressive Artist Group: Indian Artist Groups)

लावण्य योजना

यह अंग चित्रकला के सिद्धांत या षड़ंग का एक महत्वपूर्ण सिद्धांत है। इसके अनुसार, छवि या कलाकृति में भाव के साथ लालित्य होना चाहिए। अनुपात का अंग एक कला कार्य को दिशा देता है, लावण्य योजना का यह अंग इसे और उत्कृष्ट बनाता है।

जैसा कि हम पहले जानते हैं कि अभिव्यक्ति सुंदरता की आंतरिक भावना को दर्शाती है, जबकि लावण्य योजना बाहरी सुंदरता का प्रतीक है। यदि भाव, रूपभेद, प्रमाण के बाद कोई कमी है, तो कभी-कभी इसे लावण्य योजना से पूरा किया जा सकता है।

सादृश्य

चित्रकला के सिद्धांत या षडंग के इस अंग में, सादृश्य का अर्थ प्रतिबिम्ब उतरना है। भारतीय चित्रकला में इसे मुख्य वास्तु माना गया है । इसलिए, इसे चित्र-सूत्र में इस प्रकार वर्णित किया गया है:

चित्रे सादृश्य-कर्णम प्राधान परिकिरततम् ।।

-चित्र-सूत्र

संक्षिप्त में कहें तो, केवल रूप से कॉपी करना और प्रतिबिंब प्राप्त करना पर्याप्त नहीं है। वास्तव में, वस्तुओं के महत्व व जुड़ाव के साथ इस सिद्धांत का अर्थ है। अतः विषय वस्तु से संबंधित उद्देश्य भी महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए, यदि आप नदी की कल्पना करना चाहते हैं, तो यह मछली, कछुए, टिड्डे, कमल और पेड़ों और पक्षियों को चित्रित करने के लिए माना जाता है। तदनुसार, भारतीय कला में, मानव शरीर के लिए अनुकरण का यह गुण प्राकृतिक अमूर्त में खोजा गया है जो इस प्रकार हैं:

  • आँख: कमल का पत्ता, कमल की कली, हिरण की तरह, पक्षी या मछली की तरह
  • कान: एक गिद्ध के पंखों की तरह,
  • नाक: तिल के फूल या तोते की तरह,
  • नासिका: सेम की तरह,
  • होंठ: फलियों या फलियों के फूल की तरह,
  • तलवों: जैसे नीम के पत्ते या धनुष,
  • हाथों की उंगलियां: जैसे सेम या चंबा की कलियां
  • पुरुष कमर: शेर की तरह,
  • महिला की कमर: डमरू की तरह
  • जांघ: हाथी की सूंड की तरह

वर्ण (रंग) संयोजन

वर्ण (रंग) संयोजन हमें रंग का सही और उपयुक्त उपयोग बताती है। यह हमें औजारों के महत्व के साथ मिश्रण और रंग के उपयोग को बताता है। यह सिद्धांत हमें समझाता है कि तुलिका (ब्रश) के साथ रंग कहां और कैसे लगाया जाए। वास्तव में, यदि चित्रकार को वर्ण (रंग) संयोजन के बारे में कलाकार को समझ नहीं है, तो सब बेकार है।

चित्रकार को वर्णिका-भंग (रंग संयोजन) का ज्ञान होना चाहिए। इसलिए एक चित्रकार के लिए अपनी तुलिका (ब्रश) पर नियंत्रण रखना बहुत आवश्यक है।

निष्कर्ष

इस तरह, भारतीय चित्रकला के छह सिद्धान्तों (सिद्धांतों) को समझाने का प्रयास किया गया है। अतः कला प्रेमियों को कलाकृतियाँ बनाते समय इनका ध्यान रखना चाहिए। हालांकि, ऐसा कोई निश्चित नियम नहीं हैं कि चित्रकार को कोई निश्चित नियम का पालन करना चाहिए।

कला को भारतीय संस्कृति में एक आध्यात्मिक अभ्यास के रूप में माना जाता है। किंतु फिर भी इन सिद्धांतों को मार्गदर्शन की तरह ही प्रस्तुत किया जाता है। अंत में, सभी कलाकारों को अपनी कला की शैली को विकसित करने के लिए नियमित रूप से प्रयास करते रहना चाहिए।

Related Useful Books

Related Post

Raja Ravi Varma

Progressive Artist Group (PAG)

Latest Post

Related Useful Video

Spread the love

3 thoughts on “चित्रकला के सिद्धांत”

  1. Pingback: Six Limbs of Art | Write the name of six limps of painting? | Mueen Akhtar

  2. Pingback: पहाड़ी चित्रकला शैली | Pahari School of Miniature Painting | Mueen Akhtar

  3. Pingback: बंगाल स्कूल | Bengal school of Art in Hindi | Mueen Akhtar

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *